in , ,

एयर स्ट्राइक में तबाह हुआ जैश का ट्रेनिंग कैंप – मोहम्मद अम्मार

जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर के भाई ने मोहम्मद अम्मार ने कहा कि भारत सरकार ने हमारे ठिकानों पर हमला किया था.

आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर के भाई अम्मार का एक ऑडियो सामने आया है जिसमें उसने माना है कि उसके ठिकाने पर भारतीय वायुसेना ने हमला किया था. ऑडियो में वह कह रहा है कि वायुसेना ने उस जगह पर बम गिराए जहां जैश आतंकियों को ट्रेनिंग देता था.
उसने माना कि भारत ने किसी एजेंसी की बिल्डिंग पर हमला नहीं किया या किसी एजेंसी के मुख्यालय पर हमला नहीं किया बल्कि भारत ने उस जगह को निशाना बनाया जहां एजेंसी के लोग आ कर मीटिंग करते थे. ऑडियो के मुताबिक, इस कैम्प में युवाओं को जिहाद की ट्रेनिंग मिलती थी.
इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि इस कैम्प में ट्रेनिंग के बाद ही आतंकी कश्मीर का रुख करते थे. माना जा रहा है कि यहां फिदायीन हमलावरों की भी ट्रेनिंग कराई जाती थी. इस ऑडियो में लोगों को भारत के लड़ाकू विमानों के हमले की आड़ में जिहाद के लिए उकसाया जा रहा है.
पाकिस्तान से निष्कासित पत्रकार ताहा सिद्दीकी ने भी इस ऑडियो को पोस्ट किया है.

बता दें  पुलवामा हमले के बाद भारतीय वायुसेना ने सीमा पार छुपे बैठे जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की थी. वायुसेना के विमानों ने  नियंत्रण रेखा के पार आतंकी कैंप्स पर करीब 1000 किलोग्राम के बम बरसाए थे. ऐसा कहा जा रहा है कि इस हमले में करीब 200-300 आतंकियों की मौत हो गई. हालांकि सरकार ने इस संबंध में कोई आंकड़े जारी नहीं किया है.

सीमा पर गरज रही हैं तोपें, कई पाकिस्तानी ठिकाने तबाह, 8 लोगों की मौत

जम्मू। एलओसी पर दोनों ओर से अब तोपखानों का इस्तेमाल हो रहा है। नतीजतन सैनिक ठिकानों के अतिरिक्त नागरिकों के भी क्षति पहुंची है। पिछले 24 घंटों में 8 नागरिकों की मौत हुई है। इस ओर 4 तथा उस ओर भी 4 नागरिक मारे गए। बहुत से पाक सैनिक भी मारे गए। कई पाकिस्तानी ठिकाने नेस्तनाबूद किए गए। भारतीय पक्ष को पहुंची क्षति का ब्योरा मुहैया नहीं करवाया गया है।
पाकिस्तान ने बीते राजौरी और पुंछ जिलों में एलओसी पर चार सेक्टरों में गोलाबारी की। अधिकारियों ने बताया कि पाक सेना ने पुंछ में असैन्य इलाकों को निशाना बनाने के लिए हॉवित्जर 105 एमएम तोप समेत बड़े हथियारों का इस्तेमाल किया है।
पुंछ के कृष्णा घाटी सेक्टर में रात को भारी गोलाबारी में एक युवती और उसके दो बच्चों की मौत हो गई थी और दो सैनिकों समेत कई अन्य जख्मी हो गए थे। गोलाबारी में भारत की तरफ मृतकों की संख्या बढ़कर चार हो गई है। पाक मीडिया के अनुसार, उस कश्मीर में भी 4 नागरिक मारे गए हैं।

अधिकारियों का कहना था कि सरहद पर स्थित कुछ बुरी तरह से प्रभावित गांवों के निवासी दहशत में हैं और अपना घर-बार छोड़कर महफूज स्थानों की ओर चले गए हैं। लोगों के बड़ी तादाद में पलायन करने की खबर है। पुंछ के उपायुक्त राहुल यादव ने कहा कि स्वास्थ्य संस्थान खुले हैं और किसी भी स्थिति से निपटने के लिए 24 घंटे काम कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि सभी ऐंबुलेंसों को तैयार रखा गया है और उन्हें नियंत्रण रेखा के नज़दीक के इलाकों में भेजा गया है। साथ में, जरूरतमंद लोगों की मदद के लिए विशेष दल हैं।

एलओसी पर दोनों सेनाओं द्वारा तोपखानों का खुलकर इस्तेमाल किए जाने का परिणाम है कि लोगों में अफरा-तफरी का माहौल है। हालांकि भारतीय पक्ष अभी भी इस गोलाबारी को सीजफायर का उल्लंघन बताता था जबकि आम नागरिकों का मत था कि यह तो सीधे शब्दों में युद्ध है। वर्ष 2013 से जारी सीजफायर में यह दूसरा अवसर है कि एलओसी पर अब तोपखानों का इस्तेमाल हो रहा है।

मिलने वाले समाचारों में कहा गया है कि भारतीय सेना ने पाक सेना के कई अग्रिम मोर्चों को नेस्तनाबूद कर दिया था। हालांकि पाक गोलाबारी में भारतीय पक्ष को हुई क्षति का कोई आधिकारिक ब्योरा नहीं दिया गया था।

What do you think?

1 point
Upvote Downvote

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

Comments

0 comments

सिंधु का ‘परमाणु बम’,सिंधु नदी से जुड़ी संपूर्ण कहानी…

गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) 1840 रुपये निर्धारित |