in , ,

कोलकाता पुलिस कमिश्नर से पूछताछ करने पहुंची सीबीआई टीम को पश्चिम बंगाल पुलिस ने हिरासत में लिया ।

‘मुझ पर बहुत दबाव डाला गया। देश नरेंद्र मोदी से परेशान है।’ उन्होंने यह भी कहा कि केंद्र हम पर दबाव बना रहा है। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी

  • कोलकाता में सीबीआई के अफसरों को हिरासत में लिया गया, शारदा घोटाले में पूछताछ के लिए टीम पहुंची थी कमिश्नर आवास

  • मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कोलकाता पुलिस और सीबीआई टीम के बीच आई हाथापाई की नौबत

  • पुलिस ने सीबीआई टीम के सीजीओ कॉम्प्लेक्स स्थित दफ्तर पर किया कब्जा, मचा हड़कंप

  • सीबीआई अफसरों को कस्टडी में लेने की घटना के बाद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी आनन-फानन में पुलिस कमिश्नर के घर

    केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की एक टीम पोंजी घोटालों के मामलों में पूछताछ की खातिर रविवार को कोलकाता के पुलिस आयुक्त राजीव कुमार के आवास पर पहुंची, लेकिन पुलिस ने सीबीआई टीम को बाहर ही रोक दिया. खबरों के मुताबिक, कोलकाता पुलिस और सीबीआई के बीच मारपीट भी हुई है. यह खबर भी आई कि कोलकाता पुलिस ने सीबीआई के अधिकारियों को हिरासत मेें ले लिया है. हालांकि इस खबर की पुष्टि नहीं हुई है. इस हाई प्रोफाइल ड्रामे ने तब और नाटकीय मोड़ ले लिया, , भी इस सबके बीच पुलिस कमिश्नर के आवास पर पहुंच गईं.

    कोलकाता के पुलिस आयुक्त से रोज वैली और सारदा चिटफंड घोटाले के मामलों में पूछताछ को लेकर सीबीआई और राज्य सरकार के बीच रविवार को पूरा दिन तनाव बना रहा. रविवार शाम को यह तनाव उस समय चरम पर पहुंच गया, जब सीबीआई की टीम पुलिस आयुक्त के आवास पर पहुंची. लेकिन सीबीआई की टीम जैसे ही पुलिस कमिश्नर के आवास पर पहुंची तो उसे वहां तैनात पुलिसकर्मियों ने बाहर ही रोक दिया. खबरों के मुताबिक,सीबीआई के कुछ अधिकारियों को कोलकाता पुलिस जबरन पुलिस स्टेशन ले गई.

    सीबीआई अधिकारियों ने बताया कि इन घोटालों की जांच के लिए पश्चिम बंगाल पुलिस द्वारा गठित एसआईटी की अगुवाई कर चुके आईपीएस अधिकारी राजीव कुमार से गायब दस्तावेजों और फाइलों के बाबत पूछताछ करनी है. लेकिन उन्होंने जांच एजेंसी के समक्ष पेश होने के लिए जारी नोटिसों का कोई जवाब नहीं दिया है. पश्चिम बंगाल कैडर के 1989 बैच के आईपीएस अधिकारी कुमार ने चुनावी तैयारियों की समीक्षा के लिए पिछले दिनों कोलकाता आए चुनाव आयोग के अधिकारियों के साथ हुई बैठक में भी हिस्सा नहीं लिया था. बीच में यह खबर भी आई थी कि कोलकाता के पुलिस कमिश्नर ड्यूटी से गायब हैं. लेकिन रविवार को कोलकाता पुलिस ने एक बयान जारी कर कहा था कि कोलकाता के पुलिस आयुक्त न केवल शहर में उपलब्ध हैं बल्कि नियमित आधार पर दफ्तर भी आ रहे हैं. सिर्फ 31 जनवरी 2019 को वह दफ्तर नहीं आए, क्योंकि उस दिन उन्होंने अवकाश लिया था. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इस मामले को लेकर केंद्र सरकार पर सीबीआई के दुरुपयोग का आरोप लगाया था.शारदा घोटाले में कोलकाता के पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार से पूछताछ करने पहुंची सीबीआई टीम को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। जहां एक ओर पुलिस कोलकाता में सीबीआई के जॉइंट डायरेक्टर को गिरफ्तार करने के लिए उनके घर पहुंच गई। वहीं, दूसरी ओर पश्चिम बंगाल के डीजीपी कमिश्नर राजीव कुमार के आवास में पहुंच गए, जहां पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी अधिकारियों के साथ मीटिंग करने पहुंचीं। कोलकाता मेयर फिरहाद हाकिम भी पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के घर पहुंचे। मीटिंग के बाद ममता बनर्जी ने मीडिया के सामने कहा,

  • ‘मुझ पर बहुत दबाव डाला गया। देश नरेंद्र मोदी से परेशान है।’ उन्होंने यह भी कहा कि केंद्र हम पर दबाव बना रहा है।उन्होंने बीजेपी पर बदले की भावना वाली राजनीति करने का आरोप लगाया। ममता ने कहा कि कोलकाता पुलिस कमिश्नर दुनिया के सबसे अच्छे लोगों में से एक हैं। उनकी ईमानदारी और बहादुरी निर्विवाद है। वह 24×7 काम कर रहे हैं और हाल ही में केवल एक दिन की छुट्टी ली है।

What do you think?

0 points
Upvote Downvote

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

Comments

0 comments

उपभोक्ताओं को बड़ी राहत, बिजली विभाग की सरचार्ज समाधान योजना 15 फरवरी तक बढ़ी

भारत ने वनडे सीरीज 4-1से जीती