in , ,

क्रिप्टोकरेंसी के फॉउंडर जिराल्ड कॉटन की अचानक से हुई मौत

क्रिप्टोकरेंसी के 30 साल के फॉउंडर की अचानक से हुई मौत, 9,82,87,22,500 रुपए का पासवर्ड भी मौत के साथ दफ्न

कोर्ट फाइलों के हवाले से पता चला है कि कंपनी इस कोशिश में भी लगी है कि क्या किसी और एक्सचेंज के जरिए इन सिक्कों को हासिल किया जा सकता है. कंपनी का कहना है कि इसके 115,000 यूज़र्स ने क्रिप्टोकरेंसी के लिए कैश में कंपनी के खाते में पैसे जमा कराए हैं.

कनाडा का सबसे बड़ा क्रिप्टो करेंसी एक्सेंज बुरी तरह से फंस गया है. इसके 30 साल के फाउंडर की अचानक से हुई मौत के बाद इससे जुड़ी करोड़ों की डिजिटल करेंसी तक पहुंत नामुमकिन हो गई है. क्वाड्रिगा ने क्रेडिटर प्रोटेक्शन की मांग की है और अनुमान लगाया है कि 137 मिलियन डॉलर (9,82,87,22,500 रुपए) के करीब की क्रिप्टोकरेंसी गायब है.

इसके संस्थापक जिराल्ड कॉटन का दिसंबर में निधन हो गया था जिसके बाद से क्रिप्टोकरेंसी का पता लगाने या उन्हें सुरक्षित करने में नाकाम है. इन सिक्कों को संभालने की अकेली ज़िम्मेदारी 30 साल के कॉटन पर थी. कोर्ट में जमा कराए गए दस्तावेजों में कॉटन की पत्नी जेनिफर रॉबर्टसन का कहना है कि जिस लैपटॉप को कंपनी के काम के लिए इस्तेमाल किया जाता था वो एन्क्रिप्टेड है और जेनिफर को इसका पासवर्ड या रिकवरी की नहीं पता.

उन्होंने अपने एफेडेविट में कहा, “लगातार कोशिशों और खोजने के बाद भी मैं कभी भी लिखित में इन चीज़ों को पाने में सक्षम नहीं रही हूं.” कंपनी एक जांचकर्ता के जरिए लगातार इस कोशिश में लगी हुई है कि क्या कोई जानकारी निकाली जा सकती है. लेकिन तमाम कोशिशों के बावजूद थोड़े से सिक्कों का तो पता चला है लेकिन बाकी के सिक्के लापता हैं. ये चंद सिक्के कॉटन के कंप्यूटर और फोन से मिले हैं.

कोर्ट फाइलों के हवाले से पता चला है कि कंपनी इस कोशिश में भी लगी है कि क्या किसी और एक्सचेंज के जरिए इन सिक्कों को हासिल किया जा सकता है. कंपनी का कहना है कि इसके 115,000 यूज़र्स ने क्रिप्टोकरेंसी के लिए कैश में कंपनी के खाते में पैसे जमा कराए हैं. कंपनी का कहना है कि इसके पास इसके यूज़र्स के 190 मिलियन डॉलर (13,63,10,75,000 रुपए) के करीब रकम है. ज़ाहिर सी बात है कि इन यूज़र की तो सांस अटकी होगी.

What do you think?

1 point
Upvote Downvote

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

Comments

0 comments

शिल्पा शिंदे ‘अंगूरी भाभी’ अब राजनीति में आजमाएंगी दांव, कांग्रेस में हो सकती हैं शामिल

देश को बर्बाद करना चाहते हैं ढाई आदमी और मीडिया :अखिलेश ने लिखा खुला खत