in , , ,

दागदार उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग

पेपर लीक के नए मामले और परीक्षा नियंत्रक अंजू लता कटियार की गिरफ्तारी के बाद पूरा परीक्षा सिस्टम ही सवालों और जांच के घेरे में है। यूपी एसटीएफ के आईजी अमिताभ यश ने भर्ती परीक्षाओं को फूलप्रूफ बनाने के लिए एक रिपोर्ट देते हुए परीक्षाओं के पेपर की चेन ऑफ कस्टडी को सबसे मजबूत बनाने का सुझाव दिया था।

समाजवादी पार्टी सरकार में हुई दर्जनों भर्तियों में धांधली की सीबीआई जांच से दागदार हुए उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग का दामन अब भी साफ नहीं हो सका है। इस बीच पेपर लीक के नए मामले और परीक्षा नियंत्रक अंजू लता कटियार की गिरफ्तारी के बाद पूरा परीक्षा सिस्टम ही सवालों और जांच के घेरे में है।

यश ने भर्ती परीक्षाओं को फूलप्रूफ बनाने के लिए एक रिपोर्ट दी थी, जिसमें उन्होंने भर्ती परीक्षाओं के पेपर की चेन ऑफ कस्टडी को सबसे मजबूत बनाने का सुझाव दिया था। इसमें पेपर बनने से लेकर छपने के बाद सेंटर पहुंचने और वहां बंटने तक के सिस्टम को कैसे फूलप्रूफ बनाया जाए ये बताया था। इसके बावजूद यूपी लोक सेवा आयोग ने उन सुझावों को दरकिनार कर दिया, जिसका नतीजा एलटी ग्रेड और पीसीएस परीक्षा मेन्स के पेपर लीक के रूप में सामने आया है।

परीक्षा केंद्र रैंडम चुनने के लिए कहा था 
आईजी एसटीएफ ने परीक्षा केंद्रों के चयन से लेकर वहां अंदर के सुरक्षा इंतजाम कैसे हों इसके लिए भी कई अहम सुझाव दिए थे, जिसमें कहा गया था कि ब्लैक लिस्टेड केंद्रों को परीक्षा केंद्र न बनाया जाए। जो भी परीक्षा केंद्र हों, वहां एंट्री के साथ सभी कमरों में सीसीटीवी लगे हों, इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस ले जाना सख्ती से मना हो, फरेंसिक बायोमीट्रिक्स की व्यवस्था हो ताकि सॉल्वर गैंग के लोग परीक्षाओं में न बैठ सकें। सभी अभ्यर्थियों के परीक्षा केंद्र रैंडम चुने जाएं ताकि एक साथ फार्म भरने वालों के सेंटर एक जगह न पड़ें।

77 मामलों में 467 लोग हुए गिरफ्तार
यूपी एसटीएफ योगी सरकार के सत्ता में आने के बाद से अब तक परीक्षा में सेंधमारी, पेपर लीक, सॉल्वर गैंग और भर्तियों के नाम पर फर्जीवाड़ा करने वाले 77 मामले पकड़ चुकी है। इसमें परीक्षा नियंत्रक अंजू लता कटियार समेत 467 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है।

पीसीएस- 2002 परीक्षा में टॉपर थीं अंजू 
2002 बैच की पीसीएस अधिकारी अंजू लता कटियार उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग की परीक्षा में टॉप करने पर सुर्खियों में आई थीं। अब उसी आयोग की ओर से आयोजित एलटी ग्रेड शिक्षक भर्ती परीक्षा का पेपर लीक कराने के आरोप में चर्चा में हैं। अंजू के पति अभिषेक वर्मा एचएएल में इंजिनियर हैं। वह बच्चों के साथ लखनऊ में रहते हैं।

पूछताछ में खुद को बेकसूर बताती रहीं 
जेल भेजे जाने से पहले पूछताछ में अंजू कटियार ने खुद को बेकसूर बताया। कहा कि उन्हें एसटीएफ ने कभी यह नहीं बताया था कि कोलकाता के प्रिंटिंग प्रेस मालिक कौशिक के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने जैसी कार्रवाई की जा रही है। उन्होंने 26 मई को कौशिक से दस लाख रुपये लेने की बात को भी खारिज किया। जब कौशिक से मिली जानकारी और दोनों के बीच वॉट्सऐप मैसेज को दिखाया गया तो अंजू शांत हो गईं। हालांकि वह बार-बार यही कहती रहीं कि उनके ऊपर लगाए गए आरोप निराधार हैं। वाराणसी जेल में बंद कन्नौज निवासी अंजू के पति अभिषेक वर्मा उनसे मिलने पहुंचे लेकिन तमाम कोशिशों के बाद भी वह नहीं मिल सके।

संपत्तियों की जांच होगी 
अंजू लता के बैंक अकाउंट और उनकी संपत्तियों की भी जांच की जाएगी। विवेचक सीओ पिंडरा अनिल राय ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। अंजू को पुलिस रिमांड पर लेकर पूछताछ की जा सकती है। पेपर लीक कर करोड़ों की कमाई करने वाले गैंग के सदस्य जौनपुर के अजय चौहान व अजीत चौहान, गाजीपुर के प्रभुदयाल, रंजीत कुमार, गणेश प्रसाद शाह व संजय कुमार की तलाश में कई टीमें लगाई गई हैं।

आयोग के दामन पर हैं पेपर लीक के कई दाग 
समाजवादी पार्टी सरकार के कार्यकाल में विवादों में रहा यूपी लोक सेवा आयोग इस सरकार में भी सेंधमारी से अछूता नहीं है। गुरुवार को आयोग की परीक्षा नियंत्रक अंजू लता कटियार की गिरफ्तारी के बाद पूरा परीक्षा सिस्टम ही सवालों और जांच के घेरे में है।

वहीं प्रतियोगी छात्रों में भी गुस्सा लगातार बढ़ रहा है। परीक्षाओं में धांधली और पेपर लीक के बाद भी कड़ी कार्रवाई न होने से प्रतियोगी छात्रों का मनोबल टूट रहा है। अपने भविष्य को लेकर सशंकित प्रतियोगी छात्र अब वर्तमान सचिव और परीक्षा नियंत्रक के कार्यकाल में हुई सभी भर्तियों को रद करने की मांग कर रहे हैं। साथ ही पेपर लीक से जुड़े सभी मामलों की जांच सीबीआई से चाहते हैं।

इन परीक्षाओं के पेपर लीक
•2015 में पीसीएस जैसी परीक्षा का पेपर लीक हो गया। परीक्षा के कुछ घंटे पहले ही पेपर लीक हो गया था। आयोग ने 10 मई को प्रथम प्रश्न पत्र की परीक्षा दोबारा कराई। यह आयोग की सबसे विवादित परीक्षाओं में एक मानी जाती है। पेपर लीक मामले की एफआईआर लखनऊ के कृष्णानगर थाने में दर्ज करवाई गई थी।

•27 नवम्बर 2016 को आरओ/एआरओ का पेपर परीक्षा से पहले ही वॉट्सऐप पर लीक हो गया था। आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर ने साक्ष्य सहित हजरतगंज थाने में एफआईआर के लिए तहरीर दी, हालांकि रिपोर्ट दर्ज नहीं की गई। बाद में 7 जनवरी 2017 को कोर्ट के आदेश पर एफआईआर दर्ज हुई।

.पीसीएस 2017 मेंस का पेपर भी प्रयागराज के जीआईसी सेंटर पर लीक हो गया था। परीक्षा केंद्र पर गलत प्रश्न पत्र पहुंचने के मामले में आयोग ने बाद में कॉलेज को अगले 3 साल के लिए आयोग की सभी परीक्षाओं के लिए केंद्र न बनाने का फैसला लिया। केंद्र पर तैनात रहे करीब 36 कक्ष निरीक्षकों और केंद्र व्यवस्थापक को भी 3 साल के लिए आयोग की सभी परीक्षाओं से डिबार कर दिया गया। आयोग ने पीसीएस मेंस 2017 परीक्षा के प्रश्न पत्र छापने वाले प्रिंटिंग प्रेस को 2 वर्ष के लिए प्रतिबंधित कर दिया।

एसआईटी का गठन किया गया 
एसटीएफ के आईजी के निर्देश पर एसपी अपराध के निर्देशन में मामले की जांच के लिए एसआईटी का गठन कर दिया गया है। आईपीएस अमिताभ ठाकुर ने वर्ष 2016 में हुई समीक्षा अधिकारी परीक्षा पेपर लीक मामले में भी अंजू लता पर कार्रवाई की मांग की है।

प्रियंका ने उठाए सवाल 
कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा ने योगी सरकार पर निशाना साधते हुए आरोप लगाया कि यूपीपीएससी के पेपर छापने का ठेका एक डिफाल्टर को दिया गया। आयोग के कुछ अधिकारियों ने डिफाल्टर के साथ सांठ-गांठ करके पूरी परीक्षा को कमीशन-घूसखोरी की भेंट चढ़ा दिया। सरकार की नाक के नीचे युवा ठगा जा रहा हैं, लेकिन उप्र सरकार डिफाल्टर और कमीशनखोरों का हित देखने में मस्त हैं।

सरकार की सफाई 

यूपी सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थ नाथ सिंह ने सरकार का बचाव करते हुए कहा कि यूपी लोक सेवा आयोग पारदर्शिता के साथ काम करे योगी सरकार इसके लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध है। कहा कि जहां पिछली सरकारों में ऐसे मामलों में कोई कार्रवाई नहीं होती थी। वहीं भाजपा सरकार में ऐसे मामले के सामने आने के बाद अब कार्रवाई हो रही है। तो एसपी-बीएसपी और कांग्रेस आंदोलन कर रहे हैं।

समर्थन में आया कर्मचारी संघ 
आयोग का अधिकारी कर्मचारी संघ अंजू के समर्थन में उतर आया है। कहा कि एसटीएफ ने छापेमारी के दौरान विधि संगत प्रक्रिया नहीं अपनाई है।

पीसीएस असोसिएशन नाराज
अंजू को गिरफ्तारी व जेल भेजने पर पीसीएस असोसिएशन ने नाराजगी जताई की है। इस मसले पर शनिवार को असोसिएशन की बैठक बुलाई गई है।

What do you think?

1 point
Upvote Downvote

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

Comments

0 comments

मोदी सरकार ने पहले ही दिन दिए ‘तोहफे’, जानिए 5 बड़े फैसले

एक्शन में मोदी सरकार: नई शिक्षा नीति का ड्राफ्ट तैयार