in ,

MI-17 हेलीकॉप्टर क्रैश : अंतिम चरण में जांच में

पाकिस्‍तान के बालाकोट में भारतीय वायुसेना द्वारा की गई एयर स्‍ट्राइक के बाद 27 फरवरी को पाकिस्‍तान ने जवाबी कार्रवाई की कोशिश की थी.

श्रीनगर के पास 27 फरवरी को भारतीय वायुसेना के क्रैश हुए हेलीकॉप्‍टर एमआई-17 की जांच अब आखिरी चरण में पहुंच गई है. इस हादसे में हेलीकॉप्‍टर में मौजूद सभी 6 लोगों की मौत हो गई थी. एएनआई की रिपोर्ट के अनुसार, इस मामले में गंभीर चूक के कारण वायुसेना के दो अधिकारियों का कोर्ट मार्शल भी किया जा सकता है.

पाकिस्‍तान के बालाकोट में भारतीय वायुसेना द्वारा की गई एयर स्‍ट्राइक के बाद 27 फरवरी को पाकिस्‍तान ने जवाबी कार्रवाई की कोशिश की थी. जिसके बाद श्रीनगर के पास भारतीय वायुसेना का हेलीकॉप्‍टर एमआई- 17 क्रैश हो गया था.
हालांकि जांच पूरी होने के बाद ही मामले की सच्‍चाई सामने आएगी. एएनआई रिपोर्ट्स के अनुसार, एमआई-17 हेलीकॉप्‍टर को श्रीनगर में तैनात वायु सेना के डिफेंस सिस्‍टम स्‍पाइडर ने ही गलती से हिट कर दिया था. जिसके कारण हेलीकॉप्‍टर क्रैश हो गया था.

एएनआई की रिपोर्ट्स में ऐसा भी कहा जा रहा है कि एयर कॉमोडोर रैंक के अधिकारी की देखरेख में चल रही कोर्ट ऑफ इक्‍क्‍वॉयरी की प्रक्रिया भी पूरी हो गई है. लेकिन आरोपी अधिकारियों ने और सबूतों की मांग की है, जिसके कारण जांच पूरी होने में समय लग रहा है.

View image on Twitter
क्या है मामला?
बता दें कि एमआई-17 हैलीकॉप्टर क्रैश के मामले में कोर्ट ऑफ इन्क्यॉरी चल रही है. पिछले महीने एक आदेश जारी कर श्रीनगर एयर बेस के सीनियर ऑफिसर का इसी जांच के मद्देनज़र ट्रांसफर कर दिया गया था. 27 फरवरी को जब आसमान में भारत और पाकिस्तान के जेट एक दूसरे के खिलाफ गरज रहे थे तो उस वक्त रूस निर्मित एमआई-17 हेलिकॉप्टर क्रैश हो गया था और इसमें सवार छह लोग मारे गए थे.

इससे एक दिन पहले ही  किया था. बता दें कि इस हैलीकॉप्टर का ब्लैक बॉक्स भी अभी तक बरामद नहीं हो सका है. वायुसेना ने शक जताया है कि जिस गांव में ये हैलीकॉप्टर क्रैश हुए वहीं के स्थानीय लोगों ने इसे चुरा लिया है.

क्या वायुसेना ने खुद ही उड़ा दिया हैलीकॉप्टर?

पाकिस्तानी वायुसेना ने 27 फरवरी को कश्मीर में भारतीय सेना के प्रतिष्ठानों को निशाना बनाने की असफल कोशिश की थी. सूत्रों ने बताया कि कोर्ट ऑफ इनक्वायरी के तहत खासकर कई लोगों की भूमिका की जांच हो रही है, जिनमें वे लोग भी हैं जिनके हाथों में एयर डिफेंस सिस्‍टम का नियंत्रण था. हेलीकॉप्टर सतह से सतह पर मार करने वाली मिसाइल का निशाना बना था.

IAF Mi-17 crash, Probe in final stage, 2 officers likely to face court martial, एमआई-17 क्रैश, दो अधिकारियों का हो सकता है कोर्ट मार्शल

वायुसेना कोर्ट ऑफ इनक्वायरी की रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई करेगी जिसमें दोषी को गैर इरादतन हत्या का आरोपी भी बनाया जा सकता है. कोर्ट ऑफ इनक्वायरी में इसकी भी जांच की जा रही है कि हेलीकॉप्टर पर आइडेंटिफिकेशन ऑफ फ्रेंड और फो (आईएफएफ) तंत्र बंद तो नहीं था? ईएफएफ वायुसेना के रडारों को इसकी पहचान में मदद करता है कि कोई विमान या हेलीकॉप्टर अपना है या किसी दुश्मन का.

What do you think?

0 points
Upvote Downvote

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

Comments

0 comments

मालदीव की संसद में आतंकवाद पर बोले PM मोदी- अब पानी सिर से ऊपर निकल रहा

मां धूमावती जयंती आज : दुख, दरिद्रता और दुर्भाग्य दूर करती हैं मां धूमावती